शुक्रवार

और कई है हमार के मालिक के हरम में

जय हो
आसाम से लेकर दिल्ली और वहाँ से पटना और छपरा तक में हमार टीवी के मालिक द्वय ने अपने कई हरम बना रखे है | इन हरम में हर उम्र और हर रंग की रंगीनिया मौजूद है | किसी को नौकरी पर तो किसी को प्रोग्राम की एंकर के नाम पर तो किसी को खुद से भी बड़ा पद देकर ऐयास्सी के लिए रखा है | आप दंग रह जायेंगे की इस कमलापति सिंह ने तो रिश्तो को भी कलंकित कर दिया है | आजकल लड़कियों और महिलाओं को पटाने के लिए यह शख्स पहले बेटी और बहन बनाता है फिर शुरू हो जाता है खेल |
दरअसल , हमार टीवी की शुरुवात के समय यह माना जाने लगा था की इस चैनल से भोजपुरी चैनल को एक नयी राह मिलेगी और भोजपुरी स्पीकिंग लोग कही भी बैठकर देश जवार की खबर देख पायेंगे | पर महिला के साथ विवाद में चैनल का दुर्दिन आ गया और इससे भी सीख नहीं ले पाए कमलापति सिंह | और आज भी अपने हरम को गुलजार रखने के लिए तरह तरह का प्रपंच रच कर हरिया रहें है |
बेहतर पत्रकार और उम्दा टीम के बावजूद हमार टीवी की पहुँच उन दर्शको तक नहीं है जो टी आर पी हैं | कंटेंट भी लोंगो पर प्रभाव छोड़ने में विफल है | कारण साफ़ है कि सारा कंटेंट और आइडिया तो हरम में लग रहा है | चैनल के पत्रकार अभाव के बाद भी हरम की नार को कब्जियाने के फेर में लग गए हैं तो चैनल पर सिर्फ अनिल सुलभ का ही इंटरभिय्यू चलेगा ना |
जय हो

1 टिप्पणी:

  1. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! और शानदार प्रस्तुती!
    मैं आपके ब्लॉग पे देरी से आने की वजह से माफ़ी चाहूँगा मैं वैष्णोदेवी और सालासर हनुमान के दर्शन को गया हुआ था और आप से मैं आशा करता हु की आप मेरे ब्लॉग पे आके मुझे आपने विचारो से अवगत करवाएंगे और मेरे ब्लॉग के मेम्बर बनकर मुझे अनुग्रहित करे
    आपको एवं आपके परिवार को क्रवाचोथ की हार्दिक शुभकामनायें!
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं