शुक्रवार

पैसो के लिए मारा मारी

जय हो

हम यह नहीं कहते कि ज़ीने के लिए पैसे नहीं चाहिए पर अपनी अस्मिता को बेच कर या अलग रख कर नहीं करना चाहिए ! इससे कहीं ना कही बदनामी होती ही है साथ ही आपकी इमेज भी टूटती है ! देखिये परम्पराओं का टूटना अच्छा माना जाता है पर छवि पर अंगुली नहीं उठनी चाहिए !वैसे मैंने यह तय किया है कि किसी ख़ास या व्यक्ति विशेष पर इस ब्लॉग में नहीं लिखूंगा ! पर लोंगो कि करतूत से जब हिल जाता हूँ तब अपने को रोक नहीं पाता और लिखना पड़ता है ! अभी की ही कहानी है मौर्य टीवी को लौंच करना था ! पटना के एक टायकून टीवी पत्रकार ने प्रकाश झा और उनकी टीम को अपने बिजनेस का हाल दिखा कर पटना में होडिंग टांगने का ज़िम्मा ले लिया इसके लिए काफी पैसे भी दिए गए ! और अचानक ही पटना के सारे बाज़ार में मौर्य टीवी का होडिंग दिख गया ! पर यह होडिंग एक दुसरे टीवी वाले भी लेना चाहते थे ! उनका भी पटना में अलग मीडिया से जुड़ा धंधा है ! सरकार से लेकर सड़क तक के सारे बिजनेस भाई साहेब लेना चाहते है ! ऊँची बिल्डिंग में ऑफिस है सो सबको अपने नीचे मानते हैं ! लेकिन भाई को यहाँ गच्चा मिल गया ! ब्राहमण ने ब्राहमण को पहचान लिया तो गच्चा तो खाना ही था !पर भाई ने मान लिया मन के भीतर को मन लिया कि हे मन इस बार नहीं तो अगले बार !पर आगे तो इससे अधिक मामला गरम हो गया ! भाई को मौर्य टीवी के लौन्चिंग में शामिल होने के लिए कार्ड भेजा गया भाई के दोस्त पहले ही अन्दर चले गए थोड़ी देर के बाद सी एम आये और तब भाई पहुंचे या बुलाये गए कि भाई आओ सी एम अकेले है कुछ गोटी सेट करना है करलो... भाई भगा आया पर सेकयूरिती वालो ने गेट पर ही रोक लिया ... भाई को गुस्सा आ गया और वहीँ फाड़ डाला कार्ड ... कर दी ऐसी कि तैसी लेकिन किसी के सामने नहीं ..... चुपके से !
है ना मज़ेदाए मशालेदार जायका ! भाई का नाम बताएँगे अगले अंक मे !

आपको एक जानकारी खुलस४मीडिया अब डोट कोम में

जय हो

2 टिप्‍पणियां:

  1. टायकून टीवी पत्रकार श्रीकांत प्रत्युष ( जी टीवी) और दुसरे टीवी वाले प्रकाश कुमार ( स्टार टीवी)

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bhai aap likhte bahut hi jabrjast hain,, ho sake to apni email id praveenjbb@gmail.com dijiyega.. kuch mudoo pr aap se baat karni thi.

    उत्तर देंहटाएं